Home Trending उत्तर प्रदेश के ये शख्स बिना हाथ के भी सँभालते है ट्रेक्टर...

उत्तर प्रदेश के ये शख्स बिना हाथ के भी सँभालते है ट्रेक्टर की स्टीयरिंग……….

59
0
SHARE

“कौन कहता है कि किस्मत की लकीरें हथेलियों में होती हैं, किस्मत तो उनकी भी होती है, जिनके हाथ नहीं होते.” कुछ ऐसे बिरले होते हैं, जो अपनी हिम्मत और हौसले के बल पर खुद अपनी तक़दीर लिखते हैं. ऐसे ही एक शख्स रहते हैं उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में.

जी हां, कोइंदी बुज़ुर्ग के रहने वाले नीरज राय किसी सुपरहीरो से कम नहीं हैं. बचपन से ही इनके दोनों हाथ नहीं हैं, लेकिन अपनी दिव्यांगता को इन्होंने कभी कमज़ोरी नहीं बनने दिया. हाथ नहीं हैं तो क्या हुआ, उनका हौसला और हिम्मत किसी से कम नहीं है.

दोनों हाथों के न होने पर भी नीरज जा बैठे ट्रैक्टर की सीट पर और संभाल ली स्टेयरिंग. ये देखिए इनका अजब गज़ब टैलेंट. नीरज ने ट्रैक्टर स्टार्ट किया और चल दिए सरपट. बेमिसाल जज्बे के मालिक नीरज जी अपर जिलाधिकारी कार्यालय में कार्यरत हैं और वहां वो अन्य कर्मचारियों की तरह अपना काम पूरा करते हैं. उन्हें इस तरह से काम करते देखकर लोग चौंकते हैं लेकिन नीरज अपना काम दिल लगाकर करते हैं.

दिव्यांगता को अपना अधूरापन मानकर जहां तमाम लोग अपनी किस्मत को कोसते हैं और खुद को हालात पर छोड़ देते हैं. वहीं नीरज जैसे असाधारण इंसान भी हैं, जिन्होंने अपनी प्रतिभा से खुद को इस तरह से संवारा है कि लोग उन्हें देखकर प्रेरणा लेते हैं. हाथों की कमी को लेकर नीरज ने कभी भी घर-परिवार में या किसी अन्य से कोई शिकायत नहीं की और न ही कभी झेंप महसूस की. जब खुद से अपने सारे काम करने की लगन लगी तो नीरज ने पैरों से हाथों का काम लेना सीख लिया.


आज वो अपने सारे काम बिना किसी सपोर्ट के खुद करते हैं. ऑफिस में काम करने के साथ-साथ नीरज घर में भी अपने सारे काम करते हैं, यहां तक कि पैरों से चाय-पानी करना, फ़ोन पर बातें करना और कपड़े धोने का काम नीरज आसानी से कर लेते हैं. नीरज ने जिस तरह से अपने हैरतअंगेज़ टैलेंट को जोश और जुनून की आंच पर पकाया है वो वाकई में अजब भी है और गजब भी.

दुनिया भर की चुनौतियों से लड़ना आसान होता है, लेकिन खुद की कमी या कमज़ोरी से लड़ने वाला ही जिंदगी का असली सिकंदर कहलाता है और नीरज ने यह साबित कर दिया है कि जिसके अन्दर जूझने की ताकत हो और कभी हार न मानने का जज़्बा हो, तो वो अपनी तक़दीर खुद ही लिख सकता है. नीरज के इस जज़्बे और लगन को सलाम, जो सही मायने में है अजब भी है और गज़ब भी है.

आइये वीडियो देखे यहाँ ⬇⬇⬇⬇⬇

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here